D. Pharma Course Syllabus And Pattern / What is D. Pharma Course Syllabus

D. Pharma Course With Full Information

Doston सबसे पहले जानते हैं डी फार्मा कोर्स क्या है डी फार्मा का अर्थ है| डिप्लोमा इन फार्मेसी यह एक करियर ओरिएंटेड प्रोग्राम है| जिसमें कैंडिडेट से फार्मास्यूटिकल साइंस के बेसिक कांसेप्ट को समझ पाते हैं| इस कोर्स को करने के बाद स्टूडेंट में वह नॉलेज स्किल्स डेवलप हो जाती है| जो फार्मेसी की फिल्में करियर बनाने के लिए जरूरी होती है यह डिप्लोमा कोर्स ए 4 सेमेस्टर में पूरा होता है| डी फार्मा करने के बाद भी अगर आप बी फार्मा करना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं| इसके लिए आपको बी फार्मा के सेकंड ईयर में एडमिशन मिल जाता है तो डी फार्मा कोर्स क्या है| यह जानने के बाद अब बारी आई है समझने की कि डी फार्मा कोर्स करने के लिए क्वालिफिकेशन या क्राइटेरिया क्या होता है| डी फार्मा में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट का किसी रिकॉग्नाइज्ड एजुकेशन बोर्ड से 10+2 लेवल क्लियर करना जरूरी है| जो किसी भी स्क्रीन में हो सकता है 10+2 मैं मिनिमम 50 परसेंट मार्क भी होना जरूरी है| जो ओबीसी या एससी और एसटी कैटेगरी के लिए 45% होते हैं|

तो इसी के साथ आगे जानते हैं|

What is the process to take admission in D Pharma

डी फार्मा कोर्स में एडमिशन का प्रोसेस हर कॉलेज का अलग अलग होता है कुछ कॉलेजेस में डायरेक्ट एडमिशन मिल जाता है| तो बहुत सी कॉलेजेस ऐडसेंस एग्जाम कीपरफॉर्मेंस के बेस पर ही एडमिशन देते हैं तो आपको दोनों तरीके से तैयार रहना होगा

Talk about the entrance exam for admission in D Pharma course

वह सीपीएमटी और पीएम ईटी और जीपीएटी और यूपीएससी और AU AIMEE, Jee फार्मेसी तो यह सारे एंट्रेंस एग्जाम आप दे सकते हैं| और आगे जानते हैं कि डी फार्मा कोर्स ए के स्पेशल कॉन्पोनेंट से कौन से हैंजो स्टूडेंट से को सिखाए जाते हैं| Compounding Techniques, Inventory Control, Third -Party Billing, Pharmacy Software Practice, Accurate and Confidential Record -Keeping, Accurate and Sate Processing of Prescription Effective Verbal and Written Communication तो जानना भी जरूरी है| कि डी फार्मा कोर्स से किस तरह से कैंडिडेट को किस तरह कैसे स्पीड बनाता है| कि इस कोर्स के दौरान स्टूडेंट कौन-कौन से जरूरी काम करना सीखते हैं| तो एक काम है जैसे कि क्लाइंट इंफॉर्मेशन को फिल करना फार्मासिस्ट के सुपरविजन में रहते हुए आर्डर फिल करना प्रिसक्रिप्शन को आईडेंटिफाई करना ऑर्डर के लिए पेपर वर्क के कंप्लीट करना ड्रग एंड मेडिकल टर्मिनोलॉजी को समझना और अप्लाई करना फार्मेसी से जुड़े एथिक्स या लेजिसलेशन को अप्लाई करना ड्रग दो जज की कैलकुलेशन को समझना और इतने सारे कामों के साथ अब बताते हैं| आपको डी फार्माकोर्स को करवाने वाले कुछ बेहतरीन कॉलेजेसके बारे मेंजैसे डीआईडी यूनिवर्सिटी, देहरादून मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंस, मणिपाल देव भूमि ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूशन देहरादून जेस कॉलेज ऑफ फार्मेसी ऊटी,The Niligirls एन आई एम एस यूनिवर्सिटी जयपुर ओम साईं पैरामेडिकल कॉलेज अंबाला श्री गुरु गोविंद सिंह रिसेंटली नारी यूनिवर्सिटी गुडगांव जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी न्यू दिल्ली दिल्ली इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेस एंड रिसर्च न्यू दिल्ली और केआर मंगलम यूनिवर्सिटी गुड़गांव तो डी फार्मा कोर्स कंप्लीट करने के बाद आप चाहे तो बी फार्मा कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं| तो अब बारी है यह जानने की डी फार्मा करने के बाद कौन-कौन सी जॉब ऑप्शन मिल सकते हैं डी फार्मा कोर्स करने के बाद फार्मेसी की तौर पर गवर्नमेंट हार्ट हॉस्पिटल क्लीनिक ए प्राइवेट हॉस्पिटल में प्रैक्टिस की जा सकती है| इस कोर्स को करने के बाद आप खुद का प्राइवेट ड्रग स्टोर भी खोला जा सकता है| डी फार्मा कोर्स करने के बाद फार्मास्यूटिकल कंपनीज में प्रोसेस कंट्रोल मैन्युफैक्चर रेल और मार्केटिंग जैसे डिसीजन में भी वर्क किया जा सकता है इसके अलावा प्राइवेटफोन प्रोडक्शन साइंटिफिक ऑफिसर के तौर पर काम किया जा सकता हैमेडिकल रिप्रेजेंटेटिव क्वालिटी एनालिस्टऔर फार्मेसी टेक्निकल सुपरवाइजर और मेडिकल ट्रांस इंस्ट्रक्चर की जो भी पाई जा सकती हैतो यह सारे ऑप्शन आपके लिए हैं| जहां तक सैलरी के बाद है| तो डी फार्मा कोर्स करने के बाद एक प्रेशर के तौर परदो से तीन लाख पर एनम आपको मिल सकते हैं| जोकि एक्सपीरियंस बढ़ने के साथबढ़ते जाएंगे लेकिन यह ध्यान रखना जरूरी है| किसैलरी इन बातों पर डिपेंड करेगी की कैंडिडेट किस कंपनीया फोन से जुड़ गयाऔर किस पोस्ट पर काम करता है इसके साथ साथ कैंडिडेट्स की स्किल्सभी मैटर करेगीजो हर खेल में होता है|

Leave a Comment

Your email address will not be published.