Algorithms Exams Syllabus And Pattern / What is Algorithms Exam Syllabus

Algorithm With Full Information

दोस्तों आज हम बताने जा रहे हैं आपको एल्गोरिथ्म के बारे में जिसमें आपको एल्गोरिथ्म के बारे में बहुत कुछ नया सीखने को मिलेगा जोकि बहुत कम ही लोग जानते What is the algorithm, so if you do not know about it, then you do not need to worry, we will give you complete information for this. आप इसे ध्यान से पढ़ें तो दोस्तों हम सबसे पहले बात कर लेते हैं की एल्गोरिथ्म क्या है|इसके बारे में जानेंगे एल्गोरिथ्म को प्रोग्रामिंग लैंग्वेजलिखने से पहले बनाया जाता हैजिससे एक बेहतर प्रोग्राम बन सके एल्गोरिथ्म का यूज़ किसी भी प्रॉब्लम को सोल करने के लिए किया जाता है| एल्गोरिथ्म किसी भी प्रॉब्लम को स्टेप बाय स्टेप सोल करता है उदाहरण के लिए मार लो आपने किसी को फोन लगाना है| फोन करना भी एक तरह की समस्या भी है| क्योंकि आपको इसमें कुछ करना है| अब फोन करने के लिए आपको बहुत से काम करने होते हैं| जैसे कि सबसे पहली स्टेप आप फोन को इस बात के लिए चेक करेंगे चालू है या नहीं अगर आप फोन चालू करके आप उस व्यक्ति का फोन नंबर डायल करना होता है जिससे आप बात करना चाहते हैं तीसरी स्टेप फोन नंबर डायल करने के बाद आपको टारगेट व्यक्ति के फोन पर बेल जाने इंतजार करना होगा चौथी स्टेप यदि बेल जाती है और टारगेट व्यक्ति फोन अटेंड करता है|तो आपकी बात हो जाएगी तो दोस्तों इन 4 स्टेप को समझ सकते हैं आपको फोन करने जैसी मामूली प्रॉब्लम को सुलझाने के लिए भी एक सिगरेट का पालन करना होता है और साथ ही सभी स्टेप्स को फॉलो करना भी होता है आप इन सभी इस स्टेप के कर्म को चेंज नहीं कर सकते हैं| और ना ही किसी स्टेप को छोड़ सकते हैं यदि हम इनमें से किसी भी एक्सटेप्स को इग्नोर करते हैं तो आप जिस व्यक्ति से बात करना चाहते हो आप उससे बात नहीं कर पाओगे यानी प्रॉब्लम का सॉल्वेशन नहीं मिलेगा इसीलिए आप किसी भी प्रॉब्लम का सॉल्यूशन पर आप करने के लिए आपको कुछ प्रॉब्लम को डिफरेंट स्टेप्स समूह के रूप में डिफाइंड करना होता है जो कि एक निश्चित कर्म होते हैं इस फॉलो किए जाने वाले स्टेट के समूह को ही एल्गोरिथ्म कहा जाता है तो दोस्तों आप जानते हैं एल्गोरिथ्म के लक्षण के बारे में क्योंकि एल्गोरिथ्म में कई तरीके की आवश्यकता , विशेषताएं होती है जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे है|
Finiteness:
The less times an algorithm can do its job, the better it is that it always has counting steps.
Precisely Defined:
Each step of the algorithm is clearly defined which is easy to read.
Input :
एक good algorithm हमेशा एक Good इन foot लेती है|
Output :
Algorithm always takes good output like input.
Effectiveness :
एल्गोरिथ्म हमेशा प्रॉब्लम सॉल्विंग होना चाहिए|
Unambiguous :
एल्गोरिथ्म सही और स्पष्ट होना बहुत जरूरी है जिसमें स्टेप से ऑनलाइन का कुछ अर्थ निकले|

दोस्तों अब जानते एल्गोरिथ्म का उपयोग कहां पर होता है|

जैसे कि आप इतना तो जानते ही होगे की एल्गोरिथ्म का प्रयोग आजकल हर जगह है और किसी भी परेशानी का हल स्टेप बाय स्टेप निकाला जा सकता है अगर देखा जाए हमारे According इसका Use Computer और Companies industry और Programing इत्यादि में क्या जाता है| तो चलिए हम इसके यूजर्स के बारे में बताते हैंपहला है मैथमेटिकल प्रॉब्लमकॉल करने के लिए एक अच्छीऔरसही एल्गोरिथ्म काप्रयोग किया जाता है जैसे कि एक नंबर0 से बड़ा है तो प्लसऔर अगर जीरो से छोटा है तो – हैदूसरा है फेसबुक सर्च इंजनगूगल मैप बी एल्गोरिथ्म के अनुसार सारा काम करते हैंतीसरा हैकंप्यूटर साइंटिस्टऔर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग इसका यूज करता है क्योंकि इससे उन्हें काम करने मेंसमय की बचत होती हैऔर कम मेहनत में पूरा काम हो जाता है चौथा हैगलतियां ना हो इसलिए फ्लो चार्ट बनाने से पहलेसही एल्गोरिथ्म का प्रयोग किया जाता हैपांचवा हैकई सारी फेलजैसे कि स्पेस रिसर्च रोबोटिक्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में भी इसका उपयोग मुख्य रूप में किया जाता है छटा है प्रोग्राम लिखने से पहले ट्यूटर प्रोग्रामिंग में एल्गोरिथ्म का प्रयोग किया जाता है अगर आप कंप्यूटर साइंस और आईटी या बीसी या एमसीए के छात्र है और आपको प्रोग्राम लिखना है जैसे चेक द नंबर इस नोट प्राइम ऐसे प्रोग्राम को बिना सोचे समझे अगर लिखना शुरु कर दें कि गलती प्रोग्राम में देखने के लिए मिल सकती है सातवा है सुडो कोड लिखने के लिए एल्गोरिथ्म बहुत जरूरत होती है नहीं तो सुबह को उठते ही लिखना पड़ सकता है|

दोस्तों अब जानते हैं एल्गोरिथ्म के क्या फायदे हैं तो पहला फायदा है|

  1. तो पहला फायदा है एल्गोरिथ्म से किसी भी प्रॉब्लम को सॉल्व करने में आसानी होती है|
  2. The second is an algorithm that uses a fixed process.
  3. तीसरा है यह किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पर निर्भर नहीं है इसीलिए प्रोग्रामिंग ज्ञान के लिए भी किसी के लिए एल्गोरिथ्म को समझना आसान होता है|
  4. चौथा हैएल्गोरिथ्म में प्रत्येक चैनल का अपना लॉजिकल सीक्वेंस होता है इसीलिए इसे डिफेक्ट करना आसान होता है|
  5. पांचवा है एल्गोरिथ्म को फ्लो चार्ट में कैसे कन्वर्ट कर सकते हैं और इसके बाद किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बदला जा सकता है|
  6. Algorithms are really powerful technology possible like artificial intelligence. Algorithms already exist in techniques like machine learning.
  7. आधार है इस प्रकार हर दिन नेट टेक्नोलॉजी यह फीचर के साथ एल्गोरिथ्म का यूज़ बढ़ाते जा रहे हैं आज एल्गोरिथ्म वर्चुअल असिस्टेंट या
  8. ऑटोनॉमस टेक्नोलॉजी मैं भी यूज़ किया जाता है तो दोस्तों हमें आशा है|कि आपको एल्गोरिथ्म के बारे में सब कुछ अच्छे से समझ में आ गया|

Leave a Comment

Your email address will not be published.